Yaad Shayari || Ye To Zameen Ki Fitarat Hai


Ye To Zameen Ki Fitarat Hai Ki,
Wo Har Cheez Ko Mita Deti Hai Varna,
Teri Yaad Mein Girane Wale Aansuon Ka,
Alag Samandar Hota.
ये तो ज़मीन की फितरत है की,
वो हर चीज़ को मिटा देती हे वरना,
तेरी याद में गिरने वाले आंसुओं का,
अलग समंदर होता।


Aaj Phir Teri Yaad Aayi Baarish Ko Dekh Kar,
Dil Pe Zor Na Raha Apni Bebasi Ko Dekh Kar,
Royi Is Kadar Teri Yaad Mein,
Ki Baarish Bhi Tham Gayi Meri Baarish Ko Dekh Kar.
आज फिर तेरी याद आयी बारिश को देख कर,
दिल पे ज़ोर न रहा अपनी बेबसी को देख कर,
रोये इस कदर तेरी याद में,
कि बारिश भी थम गयी मेरी बारिश को देख कर।


Mat Karo Pyar Kisi Se Phoolon Ki Tarah,
Phool To Pal Mein Murajha Jaate Hain,
Pyar Karo To Kaanton Ki Tarah,
Jo Chubhne Ke Baad Bhi Yaad Aate Hain.
मत करो प्यार किसी से फूलों की तरह,
फूल तो पल में मुरझा जाते हैं,
प्यार करो तो काँटों की तरह,
जो चुभने के बाद भी याद आते हैं।


Toota Hua Phool Khushboo Deta Hai,
Beeta Hua Pal Yaadein Deta Hai,
Har Shakhs Ka Apna Andaaz Hota Hai,
Koyi Pyaar Mein Zindagi,
To Koyi Zindagi Mein Pyar De Jata Hai.
टूटा हुआ फूल खुश्बू देता है,
बीता हुआ पल यादें देता है,
हर शख्स का अपना अंदाज़ होता है,
कोई प्यार में ज़िंदगी,
तो कोई ज़िंदगी में प्यार दे जाता है।
Yaad Shayari || Ye To Zameen Ki Fitarat Hai Yaad Shayari || Ye To Zameen Ki Fitarat Hai Reviewed by Abhishek Roy on September 19, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.