Yaad Shayari || Yaadon Ki Keemat


Wo Kya Jaane, Yaadon Ki Keemat,
Jo Khud Yaadon Ko Mita Diya Karte Hain,
Yaado Ka Matlab To Unse Poochho Jo,
Yaadon Ke Sahare Jiya Karte Hain.
वो क्या जाने, यादों की कीमत,
जो ख़ुद यादों को मिटा दिया करते हैं,
यादो का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं।


Ham Shikayat Nahin Karte Jamane Se Koi,
Gar Maan Jaata Manane Se Koi,
Phir Kisi Ko Yaad Karta Na Koi,
Agar Bhool Jaata Bhulane Se Koi.
हम शिकायत नहीं करते जमाने से कोई,
गर मान जाता मनाने से कोई,
फिर किसी को याद करता ना कोई,
अगर भूल जाता भूलने से को।


Unki Yaaden Dil Mein Aaj Bhi Hain,
Bhool Gaye Wo Magar Mohabbat Aaj Bhi Hai,
Ham Khush Rahne Ka Daava To Karte Hain Lekin,
Unaki Yaad Mein Aansoo Bahate Aaj Bhi Hain.
उनकी यादें दिल में आज भी हैं,
भूल गये वो मगर मोहब्बत आज भी है,
हम खुश रहने का दावा तो करते हैं लेकिन,
उनकी याद में आँसू बहतेआज भी हैं।
Yaad Shayari || Yaadon Ki Keemat Yaad Shayari || Yaadon Ki Keemat Reviewed by Abhishek Roy on September 19, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.