Yaad Shayari || Yaadein Kankar Fenk Rahi Hain

Painful Yaad Shayari




Jaane Kya Tha Jaane Kya Hai Jo Mujhse Chhoot Raha Hai,
Yaadein Kankar Fenk Rahi Hain Aur Dil Andar Se Toot Raha Hai.
जाने क्या था जाने क्या है जो मुझसे छूट रहा है,
यादें कंकर फेंक रही हैं और दिल अंदर से टूट रहा है



Hamen Neend Ki Izaazat Bhi Unki Yaadon Se Leni Padti Hai,
Jo Khud Aaraam Se Soye Hain Hamen Karawaton Mein Chhod Kar.
हमें नींद की इज़ाज़त भी उनकी यादों से लेनी पड़ती है,
जो खुद आराम से सोये हैं हमें करवटों में छोड़ कर।



Bahut Tadpaaya Hai Kisi Ki Bebas Yaadon Ne,
Ai Zindagi Khatm Ho Ja Ab Aur Tadpa Nahin Jata.
बहुत तड़पाया है किसी की बेबस यादों ने,
ऐ ज़िंदगी खत्म हो जा अब और तड़पा नहीं जाता।



Ab Uski Shakl Bhi Mushkil Se Yaad Aati Hai,
Wo Jiske Naam Se Hote Na The Juda Mere Lab.
अब उसकी शक्ल भी मुश्किल से याद आती है,
वो जिसके नाम से होते न थे जुदा मेरे लब।



Kadam Ladkhadaye To Pata Chala Ki Pee Li Hai,
Warna Yaad Mein Aapki Baise Bhi Ham Nashe Mein Rahte Hain.
कदम लड़खड़ाये तो पता चला की पी ली है,
वरना याद में आपकी वैसे भी हम नशे में रहेते हैं।



Na Main Shayar Hoon Na Mera Shayari Se Koi Vaasta
Bas Shauk Ban Gaya Hai, Teri Yaado Ko Bayan Karna.
ना मैं शायर हूँ ना मेरा शायरी से कोई वास्ता
बस शौक बन गया है, तेरी यादो को बयान करना।

Yaad Shayari || Yaadein Kankar Fenk Rahi Hain Yaad Shayari || Yaadein Kankar Fenk Rahi Hain Reviewed by Abhishek Roy on September 23, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.