Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Se Sarabor


Mera Ilzaam Hai Tujh Par Ki Tu Bewafa Tha,
Dosh To Tera Tha Magar Tu Hamesha Hi Khafa Tha,
Zindagi Ki Is Kitaab Mein Bayaan Hai Teri Meri Kahaani,
Yaadon Se Sarabor Uska Ek Ek Sapha Tha.
मेरा इल्ज़ाम है तुझ पर कि तू बेवफा था,
दोष तो तेरा था मगर तू हमेशा ही खफा था,
ज़िन्दगी की इस किताब में बयान है तेरी मेरी कहानी,
यादों से सराबोर उसका एक एक सफा था।



Hakiqat Kaho To Unko Khwaab Lagta Hai,
Shikaayat Karo To Unko Majaak Lagta Hai,
Kitni Shiddat Se Unhen Yaad Karte Hain Ham,
Aur Ek Vo Hain Jinhen Ye Sab Ittephaak Lagta Hai.
हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है,
शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है,
कितनी शिद्दत से उन्हें याद करते हैं हम,
और एक वो हैं जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है।



Mere Pyaar Ko Bahkaava Samajh Liya Unhone,
Mere Ehsaas Ko Pachhtaava Samajh Liya Unhone,
Main Roti Rahi Unaki Yaad Mein Par Hua Ye Ki,
Mujhe Hi Bewafa Samajh Liya Unhonne.
मेरे प्यार को बहकावा समझ लिया उन्होंने,
मेरे एहसास को पछतावा समझ लिया उन्होंने,
मैं रोती रही उनकी याद में पर हुआ ये कि,
मुझे ही बेवफ़ा समझ लिया उन्होंने।
Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Se Sarabor Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Se Sarabor Reviewed by Abhishek Roy on September 23, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.