Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Ke Zakhm



Zakhm Dene Ki Aadat Nahin Hamko,
Ham To Aaj Bhi Wo Ehsaas Rakhte Hain,
Badle-Badle To Aap Hain Janaab,
Hamare Aalava Sabko Yaad Rakhte Hain.
ज़ख्म देने की आदत नहीं हमको,
हम तो आज भी वो एह्सास रखते हैं,
बदले-बदले तो आप हैं जनाब,
हमारे आलावा सबको याद रखते हैं।




Waqt Badla Aur Badli Kahaani Hai,
Sang Mere Haseen Palon Ki Yaadein Purani Hain,
Na Lagao Marham Mere Zakhmon Par,
Mere Paas Unki Bas Yahi Ek Baaki Nishan Hai.
वक़्त बदला और बदली कहानी है,
संग मेरे हसीन पलों की यादें पुरानी हैं,
ना लगाओ मरहम मेरे ज़ख्मों पर,
मेरे पास उनकी बस यही एक बाकी निशानी है।

Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Ke Zakhm Yaad Shayari || Yaad Shayari, Yaadon Ke Zakhm Reviewed by Abhishek Roy on September 23, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.