Love Shayari || Meri Sanson Mein Bikhar Jao || Wish This Year




Aa Ke Meri Sanson Mein Bikhar Jao To Achchha Hoga,
Ban Ke Rooh Mere Jism Mein Utar Jao To Achchha Hoga,
Kisi Raat Teri God Mein Sir Rakh Ke So Jaaun,
Phir Us Raat Ki Kabhi Subah Na Ho To Achchha Hoga.
आ के मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा होगा,
बन के रूह मेरे जिस्म में उतर जाओ तो अच्छा होगा,
किसी रात तेरी गोद में सिर रख के सो जाऊं,
फिर उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा होगा।




Tera Ehsaan Ham Kabhi Chuka Nahin Sakte,
Tu Agar Maange Jaan To Inkaar Kar Nahin Sakte,
Maana Ki Zindagi Leti Hai Imtihaan Bahut,
Tu Agar Ho Hamare Saath To Ham Kabhi Haar Nahin Sakte.
तेरा एहसान हम कभी चुका नहीं सकते,
तू अगर माँगे जान तो इंकार कर नहीं सकते,
माना कि ज़िंदगी लेती है इम्तिहान बहुत,
तू अगर हो हमारे साथ तो हम कभी हार नहीं सकते।




Kisi Patthar Mein Moort Hai, Koi Patthar Ki Moort Hai,
Lo Ham Ne Dekh Li Duniya, Jo Itni Khoobasoorat Hai,
Duniya Apna Na Samajhe Kabhi, Par Mujhe Khabar Hai,
Ki Tujhe Meri Zaroorat Hai Aur Mujhe Teri Zaroorat Hai.
किसी पत्थर में मूर्त है, कोई पत्थर की मूर्त है,
लो हम ने देख ली दुनिया, जो इतनी खूबसूरत है,
दुनिया अपना न समझे कभी पर मुझे खबर है,
कि तुझे मेरी ज़रूरत है और मुझे तेरी ज़रूरत है।

Love Shayari || Meri Sanson Mein Bikhar Jao || Wish This Year Love Shayari || Meri Sanson Mein Bikhar Jao || Wish This Year Reviewed by Abhishek Roy on September 30, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.